• "स्वयं को खोजो, परमात्मा को नहीं।"
    - चन्द्रमोहन
  • “जातिरहित समाज हो, नशे का नाश हो”
    - चन्द्रमोहन
  • "गाय परमात्मा का हमको दिया मेडिकल स्टोर है इसलिये इसकी रक्षा करो”
    - चन्द्रमोहन
  • “वृक्षों को पालो अपने बच्चों की तरह, अपने बच्चों के लिए”
    - चन्द्रमोहन
  • "राष्ट्रध्वज की स्थापना क्रांतिकारियों की स्मृति के बिना अधूरी है"
    - चन्द्रमोहन

हमारे बारे में

श्री परमधाम न्यास की स्थापना श्री चन्द्रमोहन जी ने वर्ष 2003 में अपने गुरू श्री आनंदकंद जी महाराज के निर्देश से पवित्र भूमि शुक्रताल, मुजफरनगर (उ.प्र.) में की। इस अभियान का उद्देश्य हिन्दुस्तानियों को जातिरहित व नशा मुक्त करना एवं अध्यात्म के प्रति समाज में जागरूकता फैलानाा...

आगे पढें

श्री परमधाम न्यास के कुछ मुख्य उद्देश्य

Kranti Guru Chanda Mohan

मूर्तियों को पढ़ो और समझो


बाहर के मन्दिर को इस प्रकार समझा जाये जैसे हम भारतवर्ष का नक्शा लें और उसमें हरिद्वार देखकर कहें यह हरिद्वार है। मगर वह तो नक्शा है। उसमें गंगा कहीं नहीं बह रही है। उसी प्रकार हमारे द्वारा बनाया गया बाहरी मन्दिर केवल नक्शा है उस परमात्मा द्वारा बनाये गए सच्चे मन्दिर का।

आगे पढें

सम्मान योग्य सात मन्दिर


इस संसार में केवल सात मन्दिर सम्मान योग्य हैं। इसमें से एक मन्दिर परमात्मा के द्वारा बनाया गया है। बाकी के छः मन्दिर मानव ने बनाए हैं। पुजारी भ्रष्ट हो सकता है लेकिन मन्दिर नहीं इसलिए मन्दिर का हर कीमत पर सम्मान किया जाना चाहिए। सात मन्दिर यह हैं

आगे पढें

मीडिया गैलरी

श्री परमधाम में संसार के सबसे ऊंचे भारतीय तिरंगे, संसार के सबसे बडे़े भारतीय मानचित्र एंव क्रांतिकारियों का भव्य स्मारक का निर्माण

श्री चन्द्रमोहन जी की प्रेरणा और जनेऊँ क्रांति अभियान के सहयोगियों के माध्यम से श्री परमधाम, मेरठ की पवित्र भूमि में क्रांतिकारियो के सम्मान और उनकी याद में समर्पित संसार का सबसे ऊंचा भारतीय राष्ट्रीय ध्वज (तिरंगा), संसार का सबसे बड़ा भारत का नक्शा और क्रांतिकारियों के स्मारक का निर्माण कार्य चल रहा है जिसमे क्रांतिकारियों की यातनाओं और उनके बलिदान से सम्बन्धित जानकारियाँ होंगी। आप भी इस पुण्य कार्य में बढ़-चढ़कर हमारा साथ दें...

सहयोग दें आगे पढें